GDP full form: क्या होता है?,जाने हिन्दी में

| |

दोस्तों,आप सभी ने कभी ना कभी न्यूज़ में या अखबार में या किसी को वार्तालाप करते हुए GDP का जिक्र तो सुना ही होगा। और कभी ना कभी तो आपके मन में ये जानने की उत्सुकता हुई होगी की आखिर GDP full form क्या होती है,GDP क्या है? तो चिंता मत कीजिए दोस्तों क्योंकि इस लेख में हम आपको GDP से related काफी सारी इसी जानकारियां देंगे, जिसका ज्ञान आप सभी को होना चाहिए।

 

किसी  भी देश की अर्थव्यवस्था उसकी GDP पर निर्भर होती है। कोई देश किया वित्तीय समृद्ध है,ये उसकी GDP द्वारा पता लगाया जाता है। कोई देश कितना तेजी से अर्थव्यवस्था में तरक्की कर रहा है, ये उसकी GDP द्वारा ज्ञात किया जा सकता है। GDP के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए इस लेख को जरूर से अंत तक पढ़िए। चलिए शुरू करते है।

 

Table of contents:

  • GDP की full form क्या होती है?(what is the full form of GDP?in Hindi)
  • GDP क्या होता है?(What is GDP?)
  • GDP को प्रस्तुत करने के कितने प्रकार होते है?
  • GDP को मापने का सूत्र क्या होता है?(What is the formula for calculating GDP in Hindi?)
  • GDP कितने प्रकार की होती है? (Types of GDP in Hindi)
  • भारत में GDP से संबंधीत कुछ महत्वपूर्ण तथ्य( some facts related to GDP in India)
  • GDP का क्या महत्व है?(what is the importance of GDP?)
  • टॉप 10 देशों की GDP कितनी है?(What are the GDP status of the top ten countries?)
  • निष्कर्ष (Conclusion)

gdp full form

GDP  full form क्या होती है?(what is the full form of GDP?in Hindi)

 किसी भी विषय के बारे में जानने से हम यह ज्ञात होना चाहिए कि उसकी full form क्या होती है। GDP के बारे में भी जानने से पहले आपको इसकी full form पता होनी चाहिए –

हिंदी GDP full form –

 GDP – सकल घरेलू उत्पाद।

 अंग्रेजी में full form –

 GDP – Gross Domestic Product

 GDP क्या होता है?(What is GDP?)

 सरल भाषा में, किसी भी देश में 1 वर्ष में उत्पादित हुई वस्तुओं या सेवाओं के कुल मूल्य को उस देश की GDP कहते है। अतः हम हम यह कह सकते है यदि किसी देश की सकल घरेलू उत्पाद अधिक है तो वह देश अधिक आर्थिक मजबूत है। भारत में सकल घरेलू उत्पाद का आकलन प्रत्येक तीन महीनों बाद होता है ताकि यह पता लगाया जा सके कि पिछले तीन महीनों में भारत में कितना उत्पादन हुआ।

GDP को प्रस्तुत करने के कितने प्रकार होते  है?

 GDP को दो प्रकार से प्रस्तुत किया जा सकता है –

  • कॉन्स्टेंट प्राइस जीडीपी : महंगाई के समय के साथ साथ बढ़ने की वजह से केन्द्रीय सांख्यिकी कार्यालय(central statistics office) सभी वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन मूल्य में वृद्धि का निर्धारण करने के लिए एक बेस year तय करता है। जिसके मुताबिक वस्तुओं और सेवाओं में वृद्ध सुनिश्चित की जाती है। इसी को कॉन्स्टेंट प्राइस जीडीपी कहते है।
  •  करंट प्राइस जीडीपी: इस श्रेणी में GDP के कुल उत्पादन मूल्य के साथ उस वर्ष की महंगाई की दर को भी जोड़ा जाता है।

GDP को मापने का सूत्र क्या होता है?(What is the formula for calculating GDP in Hindi?)

 अगर आप गणित के विद्यार्थियों है या यह चुके है तो अपने प्रश्नों को हल करने के लिए कई सारे सूत्र या formulae सीखें होंगे जिनकी मदद से आप प्रश्नों को कम समय में और आसानी से हल कर लेते होंगे। ठीक इसी प्रकार GDP जैसी बढ़ी गणना को आसानी से करने के लिए भी एक सूत्र होता है जिसके द्वारा आप देश की GDP को आसानी से ज्ञात कर सकते है।

GDP formula: GDP = C + I + G +(X – M)

 ये GDP का मुख्य फार्मूला होता है। आइए अब जानते इस सूत्र में इस्तेमाल हुए घटकों C,I,G,X, और M का क्या मतलब होता है?

C : Consumption ( उपभोग)

 

I : Investment ( निवेश )

 

G : Government spending ( सरकारी खर्च )

 

X : Export ( निर्यात )

 

M : Import ( आयात )

 यानी देश की कुल निर्यात सामग्री में से कुल आयात सामग्री के मूल्य को घटाने के बाद उसे उपभोग, निवेश और कुल सरकारी खर्च के साथ जोड़ने पर जो मूल्य प्राप्त  होता है उसे GDP ( सकल घरेलू उत्पाद ) कहते है।

GDP कितने प्रकार की होती है? (Types of GDP in Hindi)

 GDP दो प्रकार की होती हैं –

  • वास्तविक जीडीपी : इस प्रकार की जीडीपी में एक base year में समनो के मूल्य में बिना बदलाव किए जीडीपी की गणना की जाती है। वर्तमान में भारत का base year 2011 – 2012 हैं।
  • नाममात्र जीडीपी : इस प्रकार की जीडीपी में वस्तु और सेवाओं की वर्तमान कीमतों के आधार पर जीडीपी की गणना की जाती है। लेकिन देश के आर्थिक विकास को ठीक ढंग से समझने के लिए वास्तविक जीडीपी के आंकड़े देखे जाते है।

GDP का क्या महत्व है?(What is the importance of GDP?)

 GDP भारत में आने वाले निवेशकों को एक अर्थव्यवस्था के बारे में एक अच्छा विजन देता है क्योंकि GDP देश के सभी खर्चों को भली भांति दर्शाता है।GDP सरकार को पूरे देश की अर्थव्यवस्था का विवरण देती है जो कि सरकार को अपनी GDP को और मजबूत बनाने के लिए  नए उपाय ढूंढने में मदद करती है। GDP का एक बहुत बड़ा उपयोग अर्थशास्त्रियों द्वारा यह जानने में किया जाता है कि देश की अर्थव्यवस्था में growth है या मंदी।

टॉप 10 देशों की GDP कितनी है?(What are the GDP status of the top ten countries?)

 यहां हमने आपको उन 10 देशों के नाम और टोटल gross domestic product बताया है जिनकी GDP पूरी दुनिया में सबसे अधिक है। सभी 10 देशों के नाम निम्न है –

 

  • United States – $20.4 trillion
  • China – $14.0 trillion
  • Japan – $5.1 trillion
  • Germany – $4.2 trillion
  • United Kingdom – $2.9 trillion
  • France – $2.9 trillion
  • India – $2.8 trillion
  • Italy – $2.1 trillion
  • Brazil – $2.1 trillion
  • Canada – $1.7 trillion

भारत में GDP से संबंधीत कुछ महत्वपूर्ण तथ्य( some facts related to GDP in India)

  •  GDP के आधार पर भारत दुनिया में पांचवें स्थान पर है।
  • 2024 – 2025 वर्ष तक भारत की जीडीपी को 5 ट्रिलियन बनाने का लक्ष्य है।
  • भारत में प्रति व्यक्ति आय की गड़ना के लिए 2011 – 2012 वर्ष को आधार वर्ष माना गया है।
  • वर्तमान में भारत में सबसे ज्यादा प्रति व्यक्ति आय गोवा की है
  • भारत देश को सबसे ज्यादा आयकर महाराष्ट्र से प्राप्त होता है।

निष्कर्ष (conclusion)

 इस लेख में हमने आपको GDP के बारे सभी मूलभूत जानकारी प्रदान की जैसे की GDP क्या है, gdp full form क्या है, GDP कितने प्रकार की होती है और इसका क्या महत्व है? आदी। हम आशा करते की इस लेख में आपको हमारे द्वारा दी गई सभी जानकारी अच्छी लगी होगी। धन्यवाद!

 

Share on:
Previous

Rich Dad Poor Dad In Hindi PDF Download Inside

Leave a Comment